मानव जीवन में ज्योतिष की अपनी महत्ता है| ज्योतिष विज्ञान के आधार पर अनेक ज्योतिषियों द्वारा कई चमत्कारिक घटनाओं की भविष्यवाणी समय से पूर्व की गई है| सूर्य, चन्द्र, इस जगत के प्रत्यक्ष ग्रह हैं| इन्हें ज्योतिष विज्ञान के चक्षु अर्थात् नेत्रों की संज्ञा प्राप्त है| ज्योतिष विज्ञान सूर्य, चन्द्र, नक्षत्रों आदि के आधार पर कार्य करता है| वेदों में ज्योतिष का विस्तार से वर्णन प्राप्त होता है| मानव जाति के कल्याण के लिए व सृष्टि में हो रहे परिवर्तनों का अध्ययन करके उनके विषय में जानकारी प्राप्त करने में ज्योतिष शास्त्र अपनी महत्वपूर्ण स्थिति को दर्शाता है|

मनुष्य के प्रारब्ध एवं भूतकाल में किये गए कर्मों के परिणाम स्वरुप होने वाली यातनाओं व दुखों का हल, ज्योतिष द्वारा जान कर मानव जीवन को सुखद और सरल बनाने की व्यवस्था ज्योतिष शास्त्र में की गई है| ज्योतिष शास्त्र की कई शाखाएँ हैं, जैसे आयुर्वेद, वास्तुशास्त्र, तंत्रशास्त्र, सिद्धांत ज्योतिष, फलित ज्योतिष, हस्तरेखा, एवं मुहूर्त प्रकरण आदि|

डीटीपीमेजिक.कॉम ज्योतिष विज्ञान की विविध शाखाओं से युक्त कल्प वृक्ष को अपने योगदान से मानव जीवन के कल्याण के लिए प्रस्तुत कर रहा है| इस प्राचीन विद्या को हम आधुनिक युग में इस प्रकार तार्किक अनुसन्धान करके प्रचारित कर रहें हैं जिससे इसके परिणाम सुखद एवं अचूक हों व मानव जीवन में कुछ सरल उपाय करके हम अपने जीवन की कठिनाइयों को परास्त कर सकें|

About

कुण्डली मिलान

ज्योतिष शास्त्र एवं हिन्दू धर्म में कुंडली मिलाप एक प्राचीन गणना है| विवाह से पूर्व इस गणना से कुंडली मिलाप किया जाता है| चूँकि भारत में विवाह जीवन-भर का सम्बन्ध माना जाता है, यह जानना

अधिक जानिए

ज्योतिषी से बातचीत

यदि आपके जीवन में कोई समस्या आती है तो आपको अकेले

अधिक जानिए

विशेष पूजा

हम नित्य प्रतिदिन प्रातः

अधिक जानिए

पूजा

एक विशेष प्रकार की पद्धति द्वारा अभीष्ट की प्रा

अधिक जानिए

पूजा सामग्री

ज्योतिष शास्त्र और पवित्र ग्रंथों में प्रत्येक

अधिक जानिए

सामग्री

वर्षों के अनुसन्धान और प्रयासों से DTP Magic आपके लिए

अधिक जानिए

स्वप्न विचार

निद्रा अवस्था में जब भी आप कोई स्वप्न देखते है तो

अधिक जानिए

बच्चो के शुभ नाम

शिशु का नाम चयन करना एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण निर

अधिक जानिए

शगुन विचार

शगुन विचार एक ऐसा विज्ञान जिसके सहारे आप यह जान स

अधिक जानिए

आगामी उत्पाद व नये उपाय

शनिदेव ग्रह हर समय पाँच राशियों पर अपना प्रभाव र

अधिक जानिए