तुला राशि

राशिमंडल की सातवीं राशि तुला न्याय, निष्पक्षता, सामानता, शांति एवं सौहार्द का प्रतीक है| तुला राशि के व्यक्ति मानवाधिकार के सच्चे समर्थक होते हैं और वे सदैव सामानता का प्रसार करने में विश्वास रखते हैं| इन्हें समाज से अलग रहना पसंद है किन्तु फिर भी इनके मैत्रीपूर्ण संबंध सरलता से बन जाते हैं| लोगों से घुलना-मिलना एक कला है जो तुला राशि में कूट-कूट कर भरी हुई है| दूसरों से निकटता बनाने के लिए इन्हें किसी से भी प्रशिक्षण लेने की आवश्यकता नहीं है| बिना प्रयास किए भी ये दूसरों के दिल में जगह बना लेते हैं| तुला राशि के जातक कलात्मक होते हैं और इन्हें कला की अच्छी परख भी होती है| उत्कृष्ट एवं सौन्दर्य पूर्ण वातावरण इन्हें बहुत लुभाता है| यदि वातावरण इनके अनुकूल नहीं हो तो निस्संदेह आप इन्हें परेशान पाएंगे| जीवन के पथ पर, तुला राशि के जातक सभी अहम निर्णय दिमाग से लेते हैं| भावनाओं में बहकर गलत निर्णय लेना इनके सिद्धांतो में नहीं है| हालाँकि ये अत्याधिक भावुक होते हैं और दूसरों की भावनाओं और ज़रूरतों को ध्यान में रखते हैं किन्तु आवश्यकता पड़ने पर ये विवेक से काम लेते हैं| इनके साथ तर्क वितर्क करना आपके लिए व्यर्थ होगा क्योंकि इनके तर्क अधिकांश उचित होते हैं| इनकी उपस्थिति में आपको ऐसा प्रतीत होगा जैसे इन्होने आपके मन की बात पढ़ ली हो| इनका विवेक, बुद्धि और रोमांटिक स्वभाव इन्हें लगभग हर राशि के लिए उत्तम साथी बनाता है किन्तु कुम्भ, मिथुन, सिंह एवं धनु राशि के साथ इनकी भागीदारी सर्वोत्तम होती हैं|
वायु राशि होने के कारण तुला राशि के व्यक्तियों को किसी भी एक चीज़ पर लम्बे समय के लिए अपना ध्यान केन्द्रित कर पाना कठिन होता है| इनके विचारों में अस्थिरता होती हैं और इनकी रुचियाँ बदलने में समय नहीं लगता| इनकी रुचियों की सूची बस बढती ही जाती है|
ऐसा कुछ नहीं है जो तुला राशि के व्यक्तियों को लुभावना नहीं लगता| किसी भी नए अनुभव के लिए यह सदैव तत्पर रहते हैं| दृढ़ता एवं ईमानदारी ऐसे दो लक्षण हैं जिन्हें तुला राशि अहम मानती है| चूंकि ये स्वयं दूसरों के प्रति निष्पक्ष रहते हैं, इनकी अपेक्षा भी यही होती है कि दूसरा व्यक्ति भी इनकी निष्पक्षता को मूल्य दे