कन्या राशि

कन्या एक अस्थायी राशि है जिसका स्वामी ग्रह है बुध | कन्या राशि के बारे में कहा जाता है कि वे कभी भी किसी की भी आलोचना करने से चूकते नहीं हैं| लेकिन कन्या राशि सिर्फ आलोचक ही नहीं होती है| इन्हें ज्ञान अर्जित भी करना पसंद है और साथ ही वे कठिन परिश्रम से भी पीछे नहीं हटते| जब तक उन्हें मनवांछित परिणाम नहीं मिल जाता तब तक वे हार नहीं मानते| उनकी होड़ स्वयं से ही होती है और आप इन्हें सदैव बेहतरी की ओर बढ़ते हुए ही पाएंगे|
किसी भी प्रकार के बंधन में बंधना इन्हें नहीं लुभाता इसलिए ये अपनी स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए प्रयासरत रहते हैं| इन्हें किसी को भी यह बताने में झिझक नहीं होती कि यह आत्मनिर्भर हैं| यदि इन्होंने अपने आसपास कुछ भी अटपटा या गलत होते देखा तो इनसे किसी प्रकार की अपेक्षा रखना सही नहीं होगा| आवश्यकता पड़ने पर ये सही के लिए आवाज़ उठाने में कतराते भी नहीं हैं|

अपनी उपलब्धियों के लिए पुरस्कृत होना इन्हें पसंद है किन्तु ये सम्मान पाने के लिए ही काम नहीं करते| दूसरों से घुलने-मिलने में इन्हें थोडा समय लगता हैं| ये अपेक्षा करते हैं कि सामने वाला शुरुआत करे और उनसे जान-पहचान बढ़ाने का प्रयास करे | एक बार आप इन्हें भा जाए, बस फिर आप उनके आत्मविश्वास से प्रभावित हो जाएँगे|
हर कन्या राशि व्यक्ति के लिए यह कहना उचित नहीं होगा कि ये केवल दूसरों के निर्देशित काम में अत्याधिक विलीन रहते हैं| इनमें से कई ऐसे भी होते हैं जो किसी न किसी उपयोगी कार्य में भी भागीदार होते हैं| इन्हें किसी खास परियोजना में अपने विचार साझा कर श्रेय लेना भी आता है| कन्या राशि के जातक अपनी असंतुष्टता प्रकट कर सकते हैं किन्तु ये अपने लक्ष्यों से आसानी से नहीं भटकते|

कन्या राशि के व्यक्ति में आप एक सच्चा एवं विश्वसनीय मित्र पाएंगे जो सुख हो या दुःख, सदैव आपके साथ खड़े होंगे| अपनी दायित्वों के प्रति यह दृढ़ रहते हैं| हालाँकि किसी व्यक्ति के कारण सरेआम अपमानित होना इन्हें कतई पसंद नहीं है| किन्तु परिस्थिति कैसी भी हो, ये अपना आपा नहीं खोते| यदि किसी ने इनके साथ अन्याय भी किया हो, तो कन्या राशि के व्यक्ति इस बात की परवाह किए बिना कि उनकी अनुपस्थिति में आप का क्या होगा, वे चुपचाप वहां से चले जाएंगे