शगुन विचार

शगुन विचार एक ऐसा विज्ञान जिसके सहारे आप यह जान सकते है कि आपका आगामी दिन शुभ होगा या अशुभ| सितारों की स्थिति और अपने सही चयनों के अनुसार जीवन में होने वाले शुभ वृत्तांतों के बारे में पायें विस्तृत जानकारी| शगुन विचार से आप अपने व्यक्तिगत एवं व्यवसायिक जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं| जब आप जीवन के किसी भी मोड़ पर उपयुक्त चयन करते हैं तो आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन होता है और आप सुखद एवं स्वस्थ जीवन का अनुभव करते हैं| आपको उन चंद अटकलों से पार पाने के लिए क्या करना चाहिए जिनके कारण आपके जीवन और मिजाज में खलल उत्पन्न हो सकता है? ऐसी स्थिति में शगुन विचार के सहारे आप अपने जीवन में लेने वाले निर्णयों और विकल्पों के प्रति स्पष्टता प्राप्त कर सकेंगे| सितारें सदैव आपके हित में नहीं हो सकते और ऐसे ही समय में आपको हर कदम फूंक-फूंक कर रखने की आवश्यकता होती है ताकि आप एक सुखद दिन व्यतीत कर सकें| आपके भाग्य में आने वाले अवसरों से पूर्णतः लाभ उठाने के लिए आपको क्या आवश्यक कदम उठाने चाहिए, इसकी पहचान आपको होनी चाहिए और शगुन विचार ऐसे में आपके लिए सर्वोच्च विज्ञान है| किसी विशिष्ट दिन में आपको क्या और क्यों करना चाहिए, जानिए शगुन विचार की विशेष भविष्यवाणी से| 

  • यदि आपके सोकर उठते ही कोई भिखारी माँगने आ जाए तो, ये समझना चाहिए आपके द्वारा दिया गया पैसा (उधार) बिना माँगे वापस आ जाएगा.
  • अगर कानों का पिछला हिस्सा फड़के तो इससे मनुष्य का मान भंग होता है. यह किसी अपमान देने वाली घटना का इशारा होता है.
  • अगर दोनों कंधे एकसाथ फड़कें तो इससे परिवार में अशांति आती है.
  • सिर्फ दायां कंधा फड़के तो यह बताता है, कि आपको भाई या मित्र से किसी कार्य में सहयोग मिलेगा.
  • अगर नाक में फड़कने की अनुभूति हो तो इसका मतलब है, कहीं से धन की प्राप्ति होगी या आपका मान-सम्मान होगा.
  • अगर किसी स्त्री का दायां और पुरुष का बायां कान फड़के तो यह प्रिय व्यक्ति या जीवनसाथी से मुलाकात का संकेत माना जाता है.
  • हथेली फड़के तो यह धन के आगमन की निशानी होती है, लेकिन अंगूठा या उंगली फड़के तो यह शुभ नहीं होता.
  • पुरुष की दाईं भौंह फड़के तो सुख-सौभाग्य आता है. अगर दाईं आंख फड़के तो जीवनसाथी से मुलाकात या प्रेम होता है. अगर स्त्री की बाईं आंख फड़के तो उसे भी यही फल मिलता है.
  • खुले स्थान पर झाड़ू रखना अपशकुन माना जाता है, इसलिए इसे छिपा कर रखें.
  • भोजन कक्ष में झाड़ू न रखें, क्योंकि इससे घर का अनाज जल्दी खत्म हो सकता है. साथ ही, स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.
  • यदि अपने घर के बाहर हर रोज रात के समय दरवाजे के सामने झाड़ू रखते हैं ,तो इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं करती है। ये काम केवल रात के समय ही करना चाहिए। दिन में झाड़ू छिपा कर रखें.
  • यदि आप कहीं जा रहें हों और बिल्ली आपके सामने कोई खाने वाली वस्तु लेकर आये और म्याऊं बोले तो- अशुभ होता है. यही क्रिया आपके घर आते समय हो तो- शुभ होता है.
  • यदि आप घर आ रहें हैं और बिल्ली आपके सामने कोई खाने वाली वस्तु लेकर आये और म्याऊं बोले तो- शुभ होता है.
  • जाते वक्त बिल्ली बायीं ओर दिखे तो शुभ होता है,और दायीं ओर दिखे तो अशुभ होता है.
  • जाते वक्त बिल्ली दायीं ओर दिखे तो अशुभ होता है.
  • बिल्ली का रास्ता काटना अशुभ माना जाता है. कार्य में अड़चने आयेंगी.
  • यदि कहीं हम प्रवेश कर रहे है, और बिल्ली दायीं ओर से बाहर आ रही हो तो- बहुत शुभ होता है.
  • यदि बिल्ली आपके पैर सूंघ रही हो तो यह एक अशुभ संदेश है.
  • बिल्ली यदि किसी स्त्री का मस्तक चाटे तो उसके विधवा होने की आशंका है.
  • यदि आप कहीं जा रहें है , बैल अथवा भैंस दाहिनी ओर बैठे दिखे तो- यह अशुभ संकेत है.
  • किसी विशेष कार्य के लिए जाते समय गाय, बछड़ा, बैल, सुहागिन, मेहतर और चूड़ी पहनाने वाला दिखाई दे अथवा रास्ता काट जाये तो यह शुभ शकुन कार्य सिद्ध करने वाला होता है.
  • किसी कार्य हेतु जाते वक्त यदि गाय बछड़े को दूध पिलाती दिख जाये तो यह सबसे शुभ शकुन होता है। ऐसे समय में आप यदि गाय को कोई फल खिला दे तो आप के कार्य में चार-चांद लग जायेंगे।
  •  गाय का मार्ग रोकना शुभ कहा गया है.
  • नगर में प्रवेश के समय दो बैलों के दर्शन अथवा गाय-बछड़े के एक साथ दर्शन सफलता का प्रतीक है.
  • सफर करते समय यदि बांई ओर से गाय की आवाज सुनाई दे तो यह शुभ माना जाता है.
  • रात के समय अगर गाय हुंकार भरती या पुकारती है, तो यह ही शुभ शकुन माना जाता है.
  • इसके उलट अगर किसी को गाय आधी रात में रंभाती या रोती हुई दिखाई दे, तो सफर में डराने वाली परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है.
  • यात्रा पर जा रहे व्यक्ति को गाय अपने खुरों से जमीन खुरचती दिखाई दे ,तो आने वाले समय में उसे बीमारी का सामना करना पड़ सकता है.
  • अगर यात्रा पर जाते समय गाय रोती हुई दिखाई दे, तो यात्री को मृत्यु के समान कष्ट होने की आशंका रहती है.
  • यात्री को गाय अपने बछड़े से मिलने के लिए रंभाती दिखाई दे, तो उसकी सभी इच्छाएं पूरी होने के योग बनते हैं
  • जब गाय के ऊपर बहुत सारी मक्खियां बैठी हुई दिखाई दें, तो अच्छी वर्षा होने की संभावना मानी जाती है.
  • यदि किसी व्यक्ति को सांड अपनी बांई ओर से दाहिना ओर जाता हुआ दिखाई दे . तो यह शुभ शकुन माना जाता है.
  • शुभ कार्य के लिए जाते समय यदि गाय या उसका बछड़ा छींक दे तो निश्चित कार्य सिद्धि होती है। यह शकुन धन वृद्धि का भी सूचक है।
  • यदि बहुत से कौए किसी नगर या गांव में एकत्रित होकर शोर करें, तो उस नगर या गांव पर भारी विपत्ति आने के योग बनते हैं. किसी के घर पर कौओं का झुंड आकर चिल्लाए तो भवन मालिक पर कई संकट एक साथ आ सकते हैं.
  • यदि किसी व्यक्ति के ऊपर कौआ आकर बैठ जाए, तो उसे धन व सम्मान की हानि हो सकती है.
  • यदि किसी महिला के सिर पर कौआ बैठता है, तो उसके पति को गंभीर संकट का सामना करना पड़ सकता है.
  • कौआ यदि यात्रा करने वाले व्यक्ति के सामने आकर, सामान्य स्वर में कांव-कांव करे और चला जाए ,तो कार्य सिद्धि की सूचना देता है.
  • यदि कौआ पानी से भरे घड़े पर बैठा दिखाई दे तो धन-धान्य की वृद्धि होती है.
  • कौआ मुंह में रोटी, मांस आदि का टुकड़ा लाता दिखाई दे, तो मन की इच्छा पूरी होती है.
  • पेड़ पर बैठा कौआ यदि शांत स्वर में बोलता है. तो स्त्री सुख मिलता है.
  • यदि कौआ ऊपर मुंह करके पंखों को फडफ़ड़ाता है, और कर्कश स्वर में आवाज करता है तो वह मृत्यु की सूचना देता है.
  • यदि उड़ता हुआ कौआ किसी के सिर पर बीट करे, तो उसे रोग व संताप होता है और यदि हड्डी का टुकड़ा गिरा दे, तो उस व्यक्ति पर भारी संकट आ सकता है.
  • यदि कौआ पंख फडफ़ड़ाता हुआ उग्र स्वर में बोलता है, तो यह अशुभ संकेत है.
  • यदि रास्ते में शवयात्रा दिखाई दे. कार्य सिद्धि होगा अथवा धन का लाभ होगा.
  • कुत्ता सामने से, मांस का टुकड़ा लेकर आये अथवा हडडी - अशुभ.
  • संभोगरत कुत्ते को देखना अशुभ होता है. कार्य में बाधायें व परिवार में झगड़ा हो सकता है.
  • यदि किसी के दरवाजे पर लगातार कुत्ता भौंकता है तो- परिवार में धन हानि या बीमारी आ सकती है.
  • घर से निकलते समय यदि कीचड़ में सना हुआ कुत्ता दिखे और कान फड़फड़ाये तो यह बहुत ही अशुभ घटना का शकुन है. ऐसे समय में कार्य और यात्रा रोक देनी चाहिए.
  • घर के सामने सुबह के समय यदि कुत्ता रोये तो उस दिन कोई भी महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए.
  • यदि किसी मकान की दीवार पर कुत्ता रोते हुये पंजे मारे तो उस घर में चोरी होने की आशंका होती है.
  • यदि कोई व्यक्ति किसी के अन्तिम संस्कार से वापस आ रहा है और साथ में उसके कुत्ता भी आया है. तो उस व्यक्ति की मृत्यु की आशंका रहती है अथवा कोई बड़ी विपत्ति का सामना करना पड़ सकता है.
  • घर में पालतू कुत्ता को आंसू आये और वह भोजन करना त्याग दे तो समझना चाहिए कि उस घर में कोई संकट आने वाला है.
  • यदि आप किसी कार्य से बाहर जा रहे हैं और पालतू कुत्ता आपकी ओर देखकर भौंके तो आप किसी विपत्ति में फॅसने वाले है। ऐसे में जाना उचित नहीं होता है.
  • कुत्ता यदि आपके घुटने सूंघे, आपको कोई लाभ होने वाला है.
  • यदि बहुत सारे श्वान सुबह एक जगह एकत्रित होकर सूर्य की ओर मुंह करके रोते हैं तो उस नगर या गांव में विपत्ति आ सकती है.
  • रास्ते मे अथवा घर के बाहर यदि ,कुत्ता छींक दे तो विघ्न और विपत्ति के टल जाने की संभावना है.
  • यदि कोई जा रहा हो अथवा वापस आ रहा हो ,और गधा बायीं ओर दिख जाये - यह एक शुभ शकुन है.
  • पीठ के पीछे अथवा एकदम सामने गधा आवाज करें - कुछ अशुभ होने वाला है.
  • जाते वक्त गधा दायीं ओर दिखे . कार्य पूर्ण नहीं होता है.
  • हाथी का गर्जन पुत्र प्राप्ति का द्योतक है. 
  • मार्ग पर चलते हुए किसी नवविवाहिता को हाथी यदि सूंड में उठाकर आशीर्वाद देता है तो पुत्र प्राप्ति यकीनी है.
  • मार्ग में जाते समय यदि हाथी छींक दे , तो यह शकुन धन वृद्धि का सूचक होता है.
  • किसी कार्य हेतु जाते समय यदि, लाठी लिये किसान दिखाई दे ,तो कार्य में सफलता मिलेगी.
  • घोड़े के हिनहिनाने को पुत्र प्राप्ति की सूचना माना गया है
  • घोड़े की आंखों से अश्रुपात दिखाई दे तो अपशकुन होता है.
  • घोड़े को दक्षिण खुर से धरती खोदते तथा पूंछ हिलाते देखना अपार धन प्राप्ति का सूचक है.
  • आप किसी कार्य से जा रहे हों, तब आपके सामने कोई भी व्यक्ति गुड़ ले जाता हुआ दिखे तो आशा से अधिक लाभ होता है.
  • छिपकली सड़क पर कहीं भी दिख जाये - अशुभ.
  • नए घर में प्रवेश करते समय, यदि गृहस्वामी को छिपकली मरी हुई व मिट्टी लगी हुई दिखाई दे तो उसमें निवास करने वाले लोग रोगी हो सकते हैं, ऐसा शकुन शास्त्र में लिखा है। इस अपशकुन से बचने के लिए पूरे विधि-विधान से पूजन करने के बाद ही नए घर में प्रवेश करना चाहिए।
  • अगर छिपकली समागम करती मिले ,तो किसी पुराने मित्र से मिलना हो सकता है. लड़ती दिखे तो किसी दूसरे से झगड़ा संभव है, और अलग होती दिखे तो किसी प्रियजन से बिछुडऩे का दु:ख सहन करना पड़ सकता है।
  • लड़ती दिखे तो किसी दूसरे से झगड़ा संभव है, और अलग होती दिखे तो किसी प्रियजन से बिछुडऩे का दु:ख सहन करना पड़ सकता है।
  • शकुन शास्त्र के अनुसार दिन में भोजन करते समय, यदि छिपकली का बोलना सुनाई दे शीघ्र ही कोई शुभ समाचार मिल सकता है, या फिर कोई शुभ फल प्राप्त हो सकता है। हालांकि ये घटना बहुत कम होती है क्योंकि छिपकली अधिकांश रात के समय बोलती है।
  • छिपकली अगर माथे पर गिरती है तो संपत्ति मिलने की संभावना बढ़ जाती है।
  • दाहिने कान पर छिपकली का गिरना यानी आभूषण की प्राप्ति होगी। बाएं कान पर छिपकली का गिरना यानी आयु वृद्धि।
  • नाक पर छिपकली गिरना , जल्द ही भाग्योादय होगा।
  • मुख पर छिपकली गिरना,मधुर भोजन की प्राप्ति होगी।
  • गर्दन पर छिपकली गिरने, का मतलब यश की प्राप्ति होगी।
  • दाढ़ी पर छिपकली गिरने का, मतलब आपके सामने जल्दा ही कोई भयावह घटना हो सकती है।
  • मूंछ पर छिपकली गिरना, सम्मापन की प्राप्ति.
  • भौंह पर छिपकली गिरना, धन हानि।
  • दाहिनी आंख पर छिपकली गिरने का ,मतलब किसी दोस्तत से मुलाकात होगी। बाईं आंख पर छिपकली गिरने का मतलब कोई बड़ी हानि होगी।
  • कंठ पर छिपकली गिरने का, मतलब शत्रुओं का नाश होगा।
  • दाहिने कंधे पर छिपकली गिरने पर विजय की प्राप्ति होती है। बाएं कंधे पर अगर छिपकली गिरे तो नए शत्रु बनते हैं।
  • बाएं कंधे पर अगर छिपकली गिरे तो नए शत्रु बनते हैं।
  • दाहिनी भुजा पर छिपकली गिरे तो धन लाभ मिलता है।
  • बायीं भुजा पर छिपकली गिरने से संपत्ति छिनने की आशंका बढ़ती है।
  • दाहिनी हथेली पर छिपकली गिरने से कपड़े मिलते हैं।
  • बाईं हथेली पर छिपकली गिरने पर धन की हानि होती है।
  • छाती के दाहिनी ओर छिपकली गिरने से , ढेर सारी खुशियां मिलती हैं
  • छाती के बाईं ओर छिपकली गिरने से, घर में ज्यादा क्लेश होता है।
  • यदि शरीर पर चिड़िया गंदगी कर दे तो आपने समझना चाहिए आपकी दरिद्रता दूर होने वाली है.
  • जाते समय यदि सिर पर चिडि़या बीट कर दे तो बहुत अच्छा माना जाता है.
  • जाते समय आप कपड़े पहन रहे हैं और जेब से पैसे गिरें तो धन प्राप्ति का संकेत है. कपड़े उतारते समय भी ऐसा हो तो शुभ होता है.
  • आप सोकर उठे हों उसी समय नेवला आपको दिख जाए तो गुप्त धन मिलने की संभावना रहती है.
  • यदि जाते वक्त नेवला दिखाई पड़े तो- बहुत शुभ होता है। नेवला वाले स्थान की मिट्टी उठाकर आप-अपने घर में रखें जिससे धन सम्बन्धी समस्याओं से मुक्ति मिलेगी.
  • जाते वक्त बन्दर बायीं ओर दिखे तो- यह शुभता का प्रतीक है. कार्य में सफलता मिलेगी.
  • संध्याकाल में यात्रा के लिये निकले और बन्दर दिखायी पड़े तो आपकी यात्रा मंगलमय होगी.
  • बन्दर का दाहिनी ओर दिखना, शुभ होता है.
  • मेघ वर्षा के उपरांत इन्द्रधनुष के दर्शन मंगल की सूचना देता है.
  • यात्रा के समय वायु का अवरुद्ध गति से प्रवाह अपशकुन माना गया है.
  • किसी मकान की छत पर यदि उल्लू बैठ जाये ,उस घर पर कोई संकट आने वाला है.
  • यदि कोई उल्लू किसी के घर पर बैठना प्रारंभ कर दे, तो वह घर शीघ्र ही उजड़ सकता है ,और उस घर के मालिक पर कोई विपत्ति आने की संभावना बढ़ जाती है। दक्षिण अफ्रीका में उल्लू की आवाज को मृत्युसूचक कहा जाता है। चीन में उल्लू दिखाई देने पर पड़ोसी की मृत्यु का सूचक मानते हैं.
  • यदि उल्लू रात में यात्रा कर रहे व्यक्ति को होम-होम की आवाज करता मिले तो शुभ फल मिलता है.
  • शकुन शास्त्र के अनुसार यदि किसी घर की छत पर बैठ कर उल्लू बोलता है तो उस घर के स्वामी अथवा परिवार के सदस्य की मृत्यु होने की संभावना रहती है.
  • यदि किसी के दरवाजे पर उल्लू तीन दिन तक लगातार रोता है, तो उसके घर में चोरी अथवा डकैती होने की संभावना अधिक रहती है. अथवा उसे किसी न किसी रूप में धन की हानि अवश्य होती है.
  • शकुन शास्त्र के अनुसार उल्लू का बांई ओर बोलना और दिखाई देना शुभ रहता है.
  • शकुन शास्त्र के अनुसार उल्लू का दाहिने देखना और बोलना अशुभ होता है.
  • मेहमान के पीछे की तरफ, यदि उल्लू दिखाई दे, तो काम में सफलता मिलने के योग बढ़ जाते हैं.
  • यदि आप ने किसी सूअर को कीचड़ में सना हुआ देखा है, तो- शुभ है
  • यदि आप ने किसी सूअर को सूखे कीचड़ में दिखे तो- अशुभ होता है.
  • यदि आप कहीं जा रहें और आपने सूअर देख लिया तो- आपका कार्य बनेगा.
  • कहीं जाते वक्त सूअर बायीं ओर दिखे तो- शुभ ,और दायीं ओर दिखे तो अशुभ.
  • कहीं जाते वक्त सूअर दायीं ओर दिखे तो अशुभ.
  • यदि कहीं आप प्रवेश कर रहे है और सूअर आपको दायीं ओर दिखे तो शुभ ,और बांयी ओर दिखे तो अशुभ.
  • यदि कहीं आप प्रवेश कर रहे है और सूअर आपको बांयी ओर दिखे तो अशुभ.
  • नकुल तथा सर्प (नेवला-सांप) धन प्राप्ति के योग है.
  • यदि किसी व्यक्ति को सांप पेड़ पर चढ़ता दिखाई देता है, तो उसे समझ लेना चाहिए कि आने वाले समय में कुछ अच्छा होने वाला है. सामान्यत: ये एक शुभ शकुन है और धन मिलने की संभावनाओं को दर्शाता है.
  • यदि किसी अमीर व्यक्ति को सांप पेड़ से उतरते हुए दिखाई देता है तो यह अपशकुन माना जाता है. ऐसा होने पर धन हानि की संभावनाएं बढ़ जाती हैं. अत: पैसों के मामलों में सावधानी रखना चाहिए.
  • यदि कोई गरीब व्यक्ति सांप को पेड़ से उतरते देखता है, तो उसके लिए यह शुभ शकुन है। धनहीन व्यक्ति के लिए यह शकुन पैसा प्राप्त होने की ओर इशारा करता है.
  • किसी आवश्यक कार्य पर जाते समय, कोई सांप आपके सीधे हाथ की ओर से रास्ता काट दे तो यह शुभ शकुन माना जाता है. ऐसा होने पर कार्य में सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं.
  • यदि बाएं हाथ की ओर, से कोई सांप आपका रास्ता काट दे, तो आपको सावधान होकर कार्य करना चाहिए. ऐसा होने पर कार्यों में असफलता के योग बनते हैं.
  • किसी मंदिर में सांप दिखना भी शुभ माना जाता है. ऐसा होने पर व्यक्ति की मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण होती हैं.
  • यदि शिवलिंग पर सांप लिपटा हुआ दिखाई दे, तो यह भी बहुत शुभ शकुन होता है. ऐसा होने पर व्यक्ति को भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है.
  • मरा हुआ सांप देखना अशुभ माना जाता है. अत: यदि कहीं मरा हुआ सांप दिखाई दे तो भगवान शिव से क्षमा याचना करनी चाहिए और शिवलिंग पर जल, कच्चा दूध चढ़ाएं.
  • यदि किसी व्यक्ति को नाग-नागिन प्रणय करते दिखे तो इसे अशुभ माना जाता है। ऐसे में व्यक्ति को नाग-नागिन के सामने रुकना नहीं चाहिए। यदि उनके प्रेम में विघ्न पड़ता है तो यह व्यक्ति के लिए खतरनाक हो सकता है। अत: ऐसे स्थान से तुरंत चले जाना चाहिए। नाग-नागिन से किसी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए।
  • भूकंप या महामारी की सूचना पर यदि जीव जंतु या फिर कोई मनुष्य छींक दे तो अनिष्ट होने की संभावना टल जाती है.
  • दवाई का सेवन करते समय यदि छींक आए और दवाई गिर जाए तो रोग का निवारण शीघ्र हो जाता है।
  • यदि घर से निकलते समय कोई सामने से छींकता है तो कार्य में बाधा आती है।
  • यदि घर से निकलते समय कोई अगर एक से अधिक बार छींकता है तो कार्य सरलता से हो जाता है।
  • यदि कोई व्यक्ति दिन के प्रथम प्रहर ( सुबह 6 से 9 बजे तक) में पूर्व दिशा की ओर छींक की ध्वनि सुनता है तो उसे अनेक कष्ट झेलने पड़ते हैं। दूसरे प्रहर ( सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक) में सुनता है तो शारीरिक कष्ट
  • तीसरे प्रहर ( दोपहर 12 से 3 बजे तक) में सुनता है तो दूसरे के द्वारा स्वादिष्ट भोजन की प्राप्ति और चौथे प्रहर (दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक) में सुनता है तो किसी मित्र से मिलना होता है।
  • शकुन शास्त्र के अनुसार किसी प्रवासी (कोई मित्र या रिश्तेदार) के जाते समय कोई उसके बांई ओर छींकता है तो यह अशुभ संकेत है। अगर जरूरी न हो तो ऐसी यात्रा टाल देनी चाहिए।
  • कोई वस्तु खरीदते समय ,यदि छींक आ जाए ,खरीदी गई वस्तु से लाभ होता है.
  • सोने से पहले और जागने के तुरंत बाद छींक की ध्वनि सुनना अशुभ माना जाता है.
  • नए मकान में प्रवेश करते समय यदि छींक सुनाई दे तो प्रवेश स्थगित कर देना ही उचित होता है या फिर किसी योग्य ब्राह्मण से इसके बारे में विचार कर ही घर में प्रवेश करना चाहिए.
  • व्यापार आरंभ करने से पहले, छींक आना व्यापार में सफलता का सूचक है.
  • कोई मरीज यदि दवा ले रहा हो और छींक, आ जाए तो वह शीघ्र ही ठीक हो जाता है.
  • धार्मिक अनुष्ठान या यज्ञादि प्रारंभ करते समय कोई छींकता है, तो अनुष्ठान पूरा होने में समस्याएं आती हैं.
  • शकुन शास्त्र के अनुसार भोजन करने से पहले छींक की ध्वनि सुनना अशुभ माना जाता है.
  • यदि घर से निकलते समय, कोई सामने से छींकता है, तो कार्य में बाधा आती है
  • यदि घर से निकलते समय एक से अधिक बार छींकता है तो काम आसानी से पूरा हो जाता है.
  • सूर्य का चन्द्र की भांति दिखाई देना, अशुभ एवं मृत्युसूचक माना गया है.
  • सूर्योदय तथा सूर्यास्त के समय निद्रा निमग्न होना, आलस्य की प्रतीति अशुभ एवं अमंगल की सूचक है.
  •  सूर्य के आकार का धनुषाकार रूप में दिखाई देना अपशकुन कहा गया है.
  • गंदे जल या विकृत पदार्थों में यदि सूर्य का बिंब नजर आता है , तो ऐसा दुर्भाग्य की सूचना देता है.
  •  उषाकालीन सूर्य के दर्शन न होना अमंगलकारी माना गया है.
  • यदि आप किसी प्रयोजन से जा रहें और कोई टोक दे अर्थात- कहां जा रहो'' कह दे तो जिस प्रयोजन हेतु जा रहें है, उसमें असफलता ही हाथ लगेगी।
  • किसी भी कार्य को जाते समय कोई आपसे चाय पूछ ले तो कार्य में सफलता नहीं मिलेगी।
  • लड़की के लिए आप वर तलाश करने जा रहे हों. तब घर से निकलते समय चार कुँवारी लड़कियाँ बातचीत करते मिल जाएँ तो शुभ योग होता है.
  • यदि आप किसी कार्य से जा रहे हैं. तो आपके सामने सुहागन स्त्री अथवा गाय आ जाए तो कार्य में सफलता मिलती है.
  • यात्रा के समय, पुत्र सहित स्त्री मिले तो शुभ होता है.
  • यात्रा के समय सुन्दर स्त्री का मिलना शुभ होता है.
  • यात्रा के समय, कुंवारी कन्या का मिलना शुभ होता है.
  • प्रातःकाल निकलते समय यदि घंटा भक्ति संगीत आदि का स्वर सुनाई दे तो अत्यंत शुभ होता है|
  • घर से निकलते समय सबसे पहले दही या दूध से भरे पात्र पर निगाह पड़े तो अत्यंत शुभ समझा जाता है|
  • घर से निकलते समय यदि कोई भिखारी मांगने आ जाए तो यह समझे कि आप का फंसा हुआ, उधार दिया हुआ धन आपको शीघ्र ही वापस मिलेगा|
  • घर से निकलते समय यदि आपके सामने कोई व्यक्ति गुड ले जाता हुआ दिखाई दे तो बहुत ही अधिक लाभदायक होता है|
  • घर से निकलते समय यदि कोई पुरानी सुंदर फूल या हरी घास लेकर अथवा हरा चारा ले जाता हुआ मिले तो आप को बहुत ही शुभ फल प्राप्त होते हैं|
  • घर से निकलते समय कोइ स्त्री भरा हुआ बर्तन लेकर दिखाई दे तो बहुत ही शुभ एवं लाभ प्राप्ति के शगुन के रूप में माना जाता है|
  • घर से निकलते ही यदि आप को वर्षा से भीग जाते हैं तो बहुत ही अच्छा शगुन माना जाता है आपको शीघ्र ही धन प्राप्ति के योग बनते हैं|
  • घर से निकलते समय आपके ऊपर चिड़िया या कबूतर बीट कर दें तो यह समझिए कि आप की दरिद्रता बहुत ही जल्दी दूर होने वाली है यह बहुत ही शुभ शगुन है|
  • घर से निकलने से पूर्व कपड़े पहनते समय यदि आपके पैसे गिर जाते हैं तो यह शुभ शकुन है|
  • घर से निकलते समय किसी भी कार्य के लिए जा रहे हैं और आपको साधु सन्यासी दिखाई दें तो आप की यात्रा के लिए अत्यंत ही शुभ शगुन होता है|
  • घर से निकलते समय यदि आपको भरा हुआ कलश एवं मछली से भरा हुआ टोकरा दिखाई दे तो आपकी यात्रा निश्चित रुप से सफल होगी|
  • घर से निकलते समय यदि आपको कोई शव यात्रा, पालकी दिखाई दे तो बहुत ही शुभ शकुन होता है आपकी यात्रा में विजय निश्चित है|
  • घर से निकलते समय यदि कोई स्त्री अपने बच्चे के साथ एवं गाय अपने बछड़े के साथ मिले तो बहुत ही शुभ शगुन होता है|
  • घर से निकलते समय धुले हुए वस्त्र सहित धोबी एवं वाहन जो सामान से लदा हो यदि आपको मिलता है तो आपकी यात्रा अत्यंत शुभ होगी|
  • घर से निकलते समय भंगी मेहतर अथवा सफाई कर्मचारी दिखाई दे तो अत्यंत शुभ शगुन होता है|
  • यदि किसी कार्य पर जाते समय रास्ते में कोई दुष्ट प्रकृति वाला व्यभिचारी व्यक्ति सामने आ जाए तो कार्य में अवश्य ही विघ्न होने की संभावना होती है|
  • यदि किसी कार्य पर जाते समय रास्ते में कोई दुष्ट प्रकृति वाला व्यभिचारी व्यक्ति सामने आ जाए तो कार्य में अवश्य ही विघ्न होने की संभावना होती है|
  • घर से निकलते समय यदि कोई छिंक दे तो यह आपके लिए शुभ शगुन नहीं है|
  • घर से निकलते समय यदि आप का वस्त्र कहीं अटक जाए या कहीं फस जाए तो यह अच्छा शगुन नहीं है|
  • घर से निकलते समय यदि आप का जूता आपके पाँव से निकल जाए या गिर जाए तो यह अशुभ शगुन माना जाता है|
  • घर से निकलते ही आप को ठोकर लग जाए अथवा आप गिर जाए तो यात्रा त्याग दें यह आप के लिए अत्यंत अशुभ शगुन है|
  • यात्रा पर जाते समय यदि काली बिल्ली आपका रास्ता काट दें तो समझ जाइए की यात्रा में असफलता हो सकती है|
  • यात्रा के समय यदि आपको कोई आवाज लगा दें या फिर किसी भी प्रकार का सवाल पूछे तो यह आपके लिए अशुभ शगुन है|
  • घर से निकलते समय यदि आंधी आ जाती है अथवा बिजली चली जाती है तो यह अशुभ शकुन है अपनी यात्रा कुछ समय बात करें|
  • घर से निकलते समय किसी भी जीव जंतु का रुदन स्वर अथवा रोना सुनाई दे तो अशुभ शगुन है अपनी यात्रा त्याग दें|
  • घर से निकलते समय किसी को चोट लग जाए अथवा किसी को रक्त बह रहा हो ऐसा देखें तो अशुभ सगुन है अपनी यात्रा कुछ समय बात करे

अपना सवाल पूछें